FCI क्या है? एफसीआई का फुल फॉर्म, योग्यता, कार्य?

FCI Full Form

FCI Full Form : किसी भी देश में सभी नागरिको को खाद्य सामग्री जैसे अनाज, गेंहू, चावल, फल, सब्ज़ी, दूध आदि की पूर्ति करना ये सरकार का काम होता है वैसे ही हमारे भारत देश में भी सभी नागरिको को सामान रूप से सामग्री को पहुंचना भारत सरकार की जिम्मेदारी है। इसके लिए भारत सरकार ने एक संगठन का निर्माण किया है जिसे FCI कहते है। आपको बता दे पूरे भारत देश में अनाज की खरीद, बिक्री और वितरण की जिम्मेदारी FCI की है। आप सभी ने FCI का नाम टीवी और अखबारों में जरूर पड़ा होगा पर क्या आप ये जानते है की FCI का फुल फॉर्म क्या होता है। अगर नहीं जानते तो आज हम आपको FCI के बारे में पूरी जानकारी देंगे जैसे FCI (FCI kya hai) क्या है? FCI का फुल फॉर्म क्या है? एफसीआई की स्थापना कब हुई? एफसीआई के काम? एफसीआई के लिए योग्यता? आदि। तो चलिए जानते है FCI फुल फॉर्म के बारे में?

FCI Full Form in Hindi

FCI का फुल फॉर्म “Food Corporation of India” होता है। हिंदी में इसे “फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया” कहते है।

F – Food

C – Corporation of

I – India

FCI  Meaning

FCI का हिंदी मीनिंग “भारतीय खाद्य निगम” होता है।

एफसीआई क्या है? (what is fci)

भारतीय खाद्य निगम एक सरकारी संस्था है। ये संस्था पूरे भारत देश में अनाज की खरीद, बिक्री और लेनदेन का काम देखती है। भारतीय खाद्य निगम का गठन 1 जनवरी 1965 में हुआ था। भारतीय खाद्य निगम भारत सरकार और राज्य सरकार की निगरानी में काम करता है। भारतीय खाद्य निगम का मुख्यालय नई दिल्ली में है। वैसे तो FCI का कार्यालय लगभग हर राज्य में है। FCI की शुरूआत लगभग 100 करोड़ रूपए से की गई थी। भारतीय खाद्य निगम की प्रमुख खाद्य सामग्री गेहूं और चावल हैं। आपको बता दे FCI प्रतिवर्ष गेहूं के उत्पादन का 20 % और चावल के उत्पादन का 15%  खरीदकर दूसरे राज्यों में भेज देता है जिसके बाद वह के गरीब लोग जिनका राशन कार्ड बना हुआ है वो सभी कम कीमत गेहूं और चावल खरीद लेते है। अगर FCI को कोई नुकसान होता है तो इसकी भरपाई की जिम्मेदारी सरकार की होती है।

एफसीआई की स्थापना कब हुई?

एफसीआई की स्थापना 1 जनवरी 1965 को फूड कॉरपोरेशन एक्ट के तहत हुई थी। एफसीआई की स्थापना मुख्य उद्देश्य गरीब लोगो को कम से कम कीमत पर अनाज उपलब्ध करवाना था। अब सरकार सीधे किसानों से अनाज खरीदकर अपने पास रख लेती है। इसके बाद राशन कार्ड के जरिए सरकार गरीब लोगों को कम कीमत पर अनाज देती है। इसके पहले बड़े-बड़े व्यापारी किसानों से सस्ता अनाज खरीदकर अपने पास रख लेते थे। इसके बाद जब आनाज की कमी होती थी तो ज्यादा भाव में बेच देते थे। इससे आमिर लोग तो आनाज खरीद लेते थे लेकिन गरीब लोग नहीं खरीद पाते थे जिससे देश में भुखमरी बढ़ती थी इसके लिए भारत सरकार ने एफसीआई की स्थापना की थी।

एफसीआई में जॉब पोस्ट (fci post)

  • Junior Engineer
  • Engineer
  • Assistant Grade 2
  • Computer Operator

एफसीआई के लिए योग्यता? (fci qualification)

  • जूनियर इंजीनियर की पोस्ट के लिए उमीदवार के पास इंजीनियरिंग की डिग्री या डिप्लोमा होना चाहिए।
  • स्टूडेंट की उम्र 18 से 25 साल के बीच होनी चाहिए।
  • स्टेनोग्राफर की पोस्ट के लिए आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होना चाहिए।
  • टाइपिस्ट की पोस्ट के लिए स्टूडेंट को ग्रेजुएशन होना चाहिए।

एफसीआई बनने के बाद सैलरी? (fci salary)

एफसीआई की सैलेरी अलग-अलग पदों के लिए अलग-अलग होती है। अगर आपकी पोस्ट छोटी है तो आपकी शुरूआती सैलरी 8 हजार से लेकर 30 हजार तक हो सकती है। और अगर आपकी पोस्ट बड़ी है तो आपको सैलरी 40 हजार से लेकर 80 हजार तक हो सकती है।

एफसीआई के काम?

  • एफसीआई का काम खाद्य सामग्रियों की सुरक्षा करना होता है।
  • एफसीआई का काम सभी शहरों और गांवों में समय पर राशन पहुंचाना।
  • राज्यों में अनाज के स्टॉक का हिसाब रखना।
  • किसानों को उनकी फसलों का उचित दाम दिलवाना।

एफसीआई का गठन करके सरकार ने बहुत ही अच्छा काम किया है। जिससे गरीब लोगो तक कम कीमत में अनाज पहुंच जाता है। तो दोस्तों आपको इस आर्टिकल में FCI फुल फॉर्म के बारे में जानकारी मिल गई होगी। अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे।

ये भी पढ़े –

Previous articleSMPS क्या होता है? SMPS का फुल फॉर्म क्या है?
Next articleगणित के सभी चिन्हों के नाम हिंदी में और इंग्लिश में जानिए?
My name is Aditi Jain. I am a content writer and love to spend time on the internet. I write content in the Hindi language, I like to write content on the General Knowledge.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here