Generation of Computer in Hindi | कंप्यूटर की पीढ़ियां हिंदी में

आइये आज जानते है Generation of Computer in Hindi 2022 में? आज के टेक्नोलॉजी के समय में आपको एक से बढ़कर एक Computer मार्केट में मिल जायंगे जिनका यूज़ करके आप बड़े से बड़ा काम बड़ी आसानी से कर सकते है। आज आपको मार्केट में हर तरह के Computer मिल जायंगे जिनका यूज़ अलग-अलग कार्यों के लिए होता है जैसे घर पर Personal Computer का यूज़ होता है। Office, School, Shop में Digital Computer का यूज़ किया जाता हैं।

रिसर्च में Super Computer का यूज़ किया जाता है। आपको बता दे जब से कंप्यूटर का आविष्कार हुआ है तब से लेकर अब तक Computer की कई पीढ़ियां आ चुकी है। आप सभी Computer का यूज़ तो करते होंगे पर आपको Computer की पीढ़ियों के बारे में जानकरी नहीं होती। आज हम आपको Computer की कितनी पीढ़ियां (new generation of computer) होती है। इसकी जानकरी देने जा रहे है। आइये जानते है Generation of Computer in Hindi 2022 में?

Generation of Computer in Hindi

Generation of Computer in Hindi

आपको बता दे Computer की पांच पीढ़ियां होती है। कंप्यूटर के आविष्कार से लेकर आज तक कंप्यूटर में कार्यों के हिसाब से कई बदलाव हुए हैं। हम आपको Computer की पांच पीढ़ियां के बारे में जानकारी देने जा रहे है। आप सभी Computer की पांच पीढ़ियों के बारे में नीचे देख सकते है।

  • कंप्यूटर की पहली पीढ़ी (1946-1956)
  • कम्प्यूटर की दूसरी पीढ़ी (1956-1964)
  • कंप्यूटर की तृतीय पीढ़ी (1964-1971)
  • कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी (1971-1985)
  • कंप्यूटर की पांचवीं पीढ़ी (1985-Present)

1. कंप्यूटर की पहली पीढ़ी (first generation of computer)

कंप्यूटर की पहली पीढ़ी सन् 1945 से 1955 तक मानी जाती है। पहले Electronic Computer का अविष्कार सन 1945 में John Vincent Atanasoff, J. Presper Eckert, एवं John Mauchly ने किया। जिसका नाम इलेक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इंटीग्रेटर एंड कैलकुलेटर (ENIAC) था। ENIAC (Electronic Numerical Integrator and Computer) का आविष्कार उन्होंने University of Pennsylvania में किया था।

इस कंप्यूटर में 18000 Vacuum Tube लगे हुए थे। इसलिए इन कंप्यूटर का आकार बहुत बड़ा था। इस कंप्यूटर को रखने के लिए बहुत बड़े कमरे की आवश्यकता होती थी। ये कंप्यूटर लगभग 1800 वर्ग फिट में फैला हुआ था। 200 किलोवाट की इलेक्ट्रिक पावर, लगभग 70000 राजिस्टर्स, 10000 कैपेसिटर लगे हुए थे। प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर आकार में बहुत बड़े होते थे इनकी Speed बहुत ही Slow होती थी। इन कंप्यूटर की कीमत बहुत अधिक होती थी।

Examples of First Generation of Computer

  • EDSAC (Electronic Delay Storage Automatic Calculator)
  • UNIVAC (Universal Automatic Computer)
  • ENIAC (Electronic numerical integrator and computer)
  • EDVAC (Electronic Discrete Variable Automatic Computer)
  • UNIVAC-I
  • MARK-I

Advantages of First Generations of Computer

  • इस Computers में Data Storage के लिए Magnetic Drum का प्रयोग किया जाता था।
  • Data को सुरक्षति रखने के लिए Punch Card का प्रयोग किया जाता था
  • वैक्यूम ट्यूब की technology ज्यादा महंगी नहीं थी।
  • इन कम्प्यूटरों में Data को स्टोर करने की क्षमता थी।

Disadvantages of First Generation of Computer

  • प्रथम पीढ़ी के Computer आकार में बहुत बड़े होते थे
  • Computer को ठंडा रखने के लिए Air-Condition (AC) की ज़रूरत पड़ती थी।
  • प्रथम पीढ़ी के Computer आकर के कारण ये बहुत अधिक मात्रा में बिजली का इस्तेमाल करते थे।
  • इस पीढ़ी के Computer बेहद महंगे हैं।

2. कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी (Second Generations of Computer in Hindi)

कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी (second generation of computer hindi) सन् 1956 से 1964 तक मानी जाती है। इस तरह के कंप्यूटरों में Vacuum tube के जगह पर Transistor का उपयोग किया जाने लगा। विलियम शॉकले (William Shockley) ने Transistor का आविष्कार सन् 1947 में किया था। द्वितीय पीढ़ी के Computer प्रथम पीढ़ी के Computer से आकार में छोटे थे। इन कंप्यूटरों की कार्य करने की क्षमता प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटरों से ज्यादा होती थी।

इन कंप्यूटरों में बिजली की खपत पहले के मुकाबले काफी कम हो गयी थी। ये Computer ज्यादा समय चलने पर भी कम गर्म होते थे। इन कंप्यूटरों में पहले से अधिक Data को स्टोर किया जा सकता था। दूसरी पीढ़ी के computers में डाटा को सुरक्षित रखने के लिए Magnetic Core Memory का उपयोग किया जाता था। इस तरह के Computer के निर्माण में खर्चा कम खर्चा आता था। दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में मशीनी भाषा (generation of computer languages) के स्थान पर उच्च स्तरीय भाषा का उपयोग किया जाता था। जैसे Cobol, Snobol, Fortran and Algol.

Examples of Second Generation of Computer

  • NCR-304
  • IBM-1401
  • PDP-I
  • IBM-7000
  • IBM-1620

Advantages of Second Generation of Computer

  • दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में Vacuum tube के जगह पर Transistor का उपयोग किया जाने लगा जिससे कंप्यूटर का आकर छोटा हो गया था।
  • दूसरी पीढ़ी के Computer पहली पीढ़ी के कंप्यूटर की तुलना में बहुत अधिक विश्वसनीय थे।
  • डाटा को सुरक्षित रखने के लिए Magnetic Core Memory का उपयोग किया जाता था।
  • दूसरी पीढ़ी के Computer में बिजली की खपत कम होती थी।

Disadvantages of Second Generation of Computer

  • दूसरी पीढ़ी के Computer साइज में बड़े होने के कारण इनको एक स्थान से दूसरे पर ले जाने में परेशानिया होती थी।
  • दूसरे जनरेशन के Computer को लगातार maintain की जरूरत पड़ती थी।
  • इन Computer को ठंडा रखने के लिए AC की जरुरत होती थी।

3. कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी (Third Generation of Computer)

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी सन् 1964 से 1971तक मानी जाती है। तीसरी पीढ़ी के Computer में ट्रांजिस्टर के स्थान पर इंट्रीग्रेटेड सर्किट (IC) प्रयोग किया जाने लगा था। IC (Integrated Circuit) चिप का आविष्कार Texas Instrument Company के इलेक्ट्रिकल इंजिनियर जैक किल्बी (Jack Kilby) ने सन् 1958 में किया था। इस तरह के कंप्यूटर की कार्य करने की क्षमता अधिक हो गई थी।

तीसरी पीढ़ी के Computer आकार में छोटे हो गए थे। इन कंप्यूटरों में बिजली की खपत पहले के मुकाबले काफी कम हो गयी थी। ये Computer ज्यादा समय चलने पर भी कम गर्म होते थे। इन कंप्यूटरों में पहले से अधिक Data को स्टोर किया जा सकता था। तीसरी पीढ़ी के Computers को आसानी से एक जगह से दूसरी जगह पर पहुचाया जा सकता था क्योंकि इनका आकार और इनका भार काफी हल्का होता था। इस तरह के Computer में Operating System का प्रयोग किया जाता था।

Examples of Third Generation of Computer

  • CDC -1700
  • IBM 960
  • IBM 370
  • PDP II

Advantages of Third Generations of Computer

  • तीसरी पीढ़ी के Computer में Transistor के स्थान पर Integrated Circuit  चिप का उपयोग किया गया था।
  • तीसरी पीढ़ी के Computer आकर में छोटे थे जिनका रखरखाव आसान था।
  • तीसरी पीढ़ी के Computer बहुत अधिक विश्वसनीय थे।
  • इस तरह के Computer में Operating System का प्रयोग किया जाता था।

Disadvantages of Third Generation of Computer

  • इन Computer को ठंडा रखने के लिए AC की जरुरत होती थी।
  • IC चिप को बनाने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था।
  • इस पीढ़ी के कंप्यूटर काफी महंगेआते थे।

4. कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी (Fourth Generation of Computer in Hindi)

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी सन् 1971 से 1985 तक मानी जाती है। इस तरह के कंप्यूटर में Integrated Circuit चिप के स्थान पर VLSI (Very Large Scale Integrated) चिप का प्रयोग किया जाने लगा जिसे Micro Processor कहा जाता है। इस तरह के Computer में ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस (GUI) पर आधरित Operating System का प्रयोग किया गया। पहला Micro Processor 1971 में Intel द्वारा पहली बार पेश किया गया था। Micro Computer का विकास 1970 में हुआ था। Micro Computer आकार में इतने छोटे होते है की इन्हें  डेस्क पर या ब्रिफकेश में भी रख सकते है। Micro Computer का उपयोग ऑफिस, घर, विद्यालय, व्यापार, चिकित्सा, रक्षा, मनोरंजन, आदि क्षेत्रों में किया जाता है।

Examples of Fourth Generation of Computer

  • IBM-4341
  • DEC-10
  • STAR-1000
  • PPR-II
  • APPLE-II

Advantages of Fourth Generation of Computer

  • चौथी पीढ़ी के Computer में Integrated Circuit के जगह Very Large Scale Integration (VLSI) का उपयोग किया गया था।
  • चौथी पीढ़ी के Computer आकर में छोटे थे जिनका रखरखाव आसान था।
  • इन कंप्यूटर के दाम सस्ते होने के कारण इनका यूज़ ज्यादा होने लगा।
  • चौथी पीढ़ी के Computer बहुत अधिक विश्वसनीय थे।

Disadvantages of Fourth Generations of Computer

  • Micro Processor चिप के ख़राब होने की सम्भावना अधिक होती थी
  • Internet की आवश्यकता बढ़ गई।
  • Network के उपयोग होने से संक्रमण का खतरा बढ़ा।

5. कंप्यूटर की पांचवीं पीढ़ी (fifth generation of computer in hindi)

कंप्यूटर की पांचवीं पीढ़ी 1985 से लेकर अभी तक और भविष्य में बनने वाले Computer को रखा गया है। इस पीढ़ी के कंप्यूटर में VLSIC के स्थान पर ULSIC (Ultra Large Scal Integrated Circuit) चिप का Micro Processor के रूप में प्रयोग किया गया है। इस नई तकनीक से Micro Processor के आकार और कार्य करने की क्षमता में काफी बृद्धि हो गयी है। इस पीढ़ी के कंप्यूटर में कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence) या AI का प्रयोग किया जा रहा है। इस generation के कम्प्यूटरों में उच्च स्तरीय भाषा का उपयोग किया जाता हैं जैसे C, C++ , java , python आदि।

Examples of Fifth Generation of Computer

  • Desktop
  • Laptop
  • Notebook
  • Ultrabook
  • Chromebook

Advantages of Fifth Generation of Computer

  • पांचवीं पीढ़ी के कंप्यूटर की Speed तेज़ हो गयी।
  • पांचवीं पीढ़ी के Computers आकार में बहुत ही छोटा हो गया।
  • कंप्यूटर की storage capacity अत्यधिक बढ़ गयी.
  • GUI (Graphical User Interface) का उपयोग होने लगा.
  • इस पीढ़ी में सभी High-level language जैसे C और C ++, Java, .Net आदि का उपयोग किया जाता है।

Disadvantages of Fifth Generations of Computer

  • इस कंप्यूटर को यूज़ करने में काफी ज्यादा समस्याओ का सामना करना पड़ता है।

तो अब आप जान गए होंगे कि Generation of Computer in Hindi 2022 में? हमने आपको Computer की पांच पीढ़ियां (what is computer generation explain with examples ) के बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है की आपको इस आर्टिकल में सारी जानकारी मिल गई होगी।

ये भी पढ़े-

कंप्यूटर की पीढ़ियां से सम्बंधित FAQ

प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर की भाषा कौन सी थी?

प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर में मशीन भाषा का प्रयोग किया गया था।

कंप्यूटर में कितनी पीढियां होती है?

इसकी पांच पीढियां होती है।

My name is Ashish Shriwas. I am an engineer. I work in an IT company. I write on topics like technology, mobile, app.