ताज महल किसने बनवाया था?

आज आप इस आर्टिकल में जानेंगे कि Taj Mahal Kisne Banwaya Tha? ताज महल आज दुनिया भर में इतना प्रसिद्ध है की लोग देश-विदेशों से इसे देखने आते है। इसकी खूबसूरती लोगों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर लेती है। ताज महल को प्रेम की निशानी कहा जाता है ताजमहल विश्व के 7 Wonders में सबसे पहला स्थान रखता है। यमुना नदी के किनारे बना ये ऐतिहासिक स्मारक भारत के पर्यटन का सबसे बड़ा आकर्षण है। आपने भी ताज महल जरूर देखा होगा पर आप क्या ये जानते है ताज महल किसने बनवाया था? आइए जानते हैं कि Taj Mahal Kisne Banwaya Tha?

ताज महल किसने बनवाया था

ताजमहल को मुंगल वंश के पाचवें बादशाह शाहजहाँ ने बनवाया था। इस खूबसूरत इमारत को शाहजहाँ ने अपनी सबसे ज्यादा प्रिय बेगम मुमताज की याद में बनवाया था। ताजमहल को बानाने में 21 वर्ष का समय लगा था। सन 1632 में ताजमहल का आधारशिला रखा गया था। जो 1653 में बनकर तैयार हुआ था। मुमताज महल का कब्र पहले कही और था। जब ताजमहल का निर्माण होने लगा तब मुमताज के कब्र को स्थानांतरित किया गया था। शाहजहाँ के मौत के बाद उसे भी मुमताज के कब्र के बगल में दफनाया गया। शाहजहाँ और मुमताज की कब्र ताजमहल के अंदर ही हैं। ताजमहल का ज्यादातर हिस्सा संगमर्मर पत्थर से बना हुआ हैं। यह इमारत उत्तरप्रदेश के आगरा जिले में यमुना नदी के किनारे स्थित हैं। ताजमहल की ऊँचाई 73 मीटर हैं।

ताजमहल को बनाने में कितने मजदूर लगे थे?

ताजमहल को बनाने के लिए 20,000 मज़दूर लगे थे।जिनमें भारत, फ़ारस और तुर्की के मज़दूर थे।

ताजमहल का इतिहास

ताजमहल शाहजहां की तीसरी बेगम मुमताज महल की मज़ार है। मुमताज के गुज़र जाने के बाद उनकी याद में शाहजहां ने ताजमहल बनवाया था। कहा जाता है कि मुमताज़ महल ने मरते वक्त मकबरा बनाए जाने की ख्वाहिश जताई थी जसके बाद शाहजहां ने ताजमहन बनावाया। ताजमहल को सफेद संगमरमर से बनवाया गया है। शाहजहां ने इस अद्भूत चीज़ को बनवाने के लिए बगदाद और तुर्की से कारीगर बुलवाए थे। माना जाता है कि ताजमहल बनाने के लिए बगदाद से एक कारीगर बुलवाया गया जो पत्थर पर घुमावदार अक्षरों को तराश सकता था।

इसी तरह बुखारा शहर से कारीगर को बुलवाया गया था, वह संगमरमर के पत्थर पर फूलों को तराशने में दक्ष था। वहीं गुंबदों का निर्माण करने के लिए तुर्की के इस्तम्बुल में रहने वाले दक्ष कारीगर को बुलाया गया और मिनारों का निर्माण करने के लिए समरकंद से दक्ष कारीगर को बुलवाया गया था। और इस तरह अलग-अलग जगह से आए करीगरों ने ताजमहल बनाया था। ई. 1630 में शुरू हुआ ताजमहल के बनने के काम करीब 22 साल तक चला। इसे बनाने में करीब 20 हजार मजदूरों ने योगदान दिया। यमुना नदी के किनारे सफेद पत्थरों से निर्मित अलौकिक सुंदरता की तस्वीर ‘ताजमहल’ आज ना केवल भारत में, बल्कि पूरे विश्व में अपनी पहचान बना चुका है।

तो अब आप जान गए होंगे कि Taj Mahal Kisne Banwaya Tha? ताजमहल को मुंगल वंश के पाचवें बादशाह शाहजहाँ ने बनवाया था। इस खूबसूरत इमारत को शाहजहाँ ने अपनी सबसे ज्यादा प्रिय बेगम मुमताज की याद में बनवाया था। उम्मीद है की आपको इस आर्टिकल में सारी जानकारी मिल गई होगी।

ये भी पढ़े-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here