ताज होटल का मालिक कौन है?

आज आप इस आर्टिकल में जानेंगे कि Taj Hotel Ka Malik Kaun Hai 2022 में? भारत का ताज होटल पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। ताज होटल भारत के सबसे पहले होटल मे से है। ताज होटल की ब्रांच पूरे भारत में फैली हुई है। इनके होटल भारत नही पूरे विश्व में हैं। ताज होटल्स लग्ज़री होटलों की एक श्रृंखला है और इंडियन होटल्स कंपनी लिमिटेड की सहायक कंपनी है, जिसका मुख्यालय एक्सप्रेस टावर्स, नरीमन पॉइंट, मुंबई में है। ये कंपनी भारत भर में 84 और भूटान, मलेशिया, मालदीव, नेपाल, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका, यूएई, यूके, यूएसए और जाम्बिया सहित अन्य देशों में कुल 100 से अधिक होटल और रिसॉर्ट संचालित करती है।

जयपुर में रामबाग पैलेस और मुंबई में ताज महल पैलेस एंड टॉवर, को कोंडे नास्ट ट्रैवलर द्वारा “विश्व में शीर्ष 100 होटल और रिसॉर्ट्स” में 2013 में स्थान दिया गया था। कोंडे नास्ट ट्रैवलर ने 2014 में “गोल्ड स्टैंडर्ड होटल” की सूची में मुंबई में ताजमहल पैलेस को 13 वें स्थान पर रखा।

ताज होटल केवल बड़े-बड़े सेलिब्रिटी ओर पैसे वाले लोग जा पाते है यहाँ आम इंसान को रहना और खाना किसी सपने से कम नही होगा। 117 साल पुरानी इस होटल में 500 से अधिक कमरे है मुम्बई का यह पहला होटल था जिसके उदघाटन पर 17 व्यक्ति इस होटल में रात बिताने के लिए रुके थे और उस दिन एक कमरे का किराया मात्र 10 रुपये था। आइए जानते हैं कि Taj Hotel Ka Malik Kaun Hai 2022 में?

Taj Hotel Ka Malik Kaun Hai

ताज होटल का मालिक कौन है

ताज होटल का मालिक जमशेदजी टाटा है जिन्होंने इस होटल की नीवं रखी थी। यह होटल 1903 में बनकर तैयार हुआ था।जमशेदजी टाटा का जन्म 3 मार्च 1839 को गुजरात में हुआ था। इनका पूरा नाम Jamsetji Nusserwanji Tata था। इनकी पत्नी का नाम हिराबाई दाबू था और इनके बेटे रतन जी टाटा और दोराब जी टाटा है। आपको बता दे कि यह 117 साल पुरानी होटल है अधिक्तर विदेशो से आये हुए लोग इसी होटल में रुकना पसंद करते है। ताज होटल को 16 दिसम्बर 1903 को आम जनता के लिए खोल दिया था ओर ये होटल 6 मंजिल का है जिसमे 560 कमरे और 44 स्वीट्स है। इस होटल को टाटा ग्रुप द्वारा चलाया जाता है। आपको बता दे कि ताज होटल का मालिकाना हक टाटा कंपनी का ग्रुप रखता है औऱ टाटा कंपनी का मालिक रतन टाटा है इससे साबित होता है कि वर्तमान में ताजमहल होटल का मालिक रतन टाटा जी है।

ताज होटल की कमाई कितनी है

आपको बता दे कि इस ताज होटल की 1 साल की कमाई लगभग 4171 करोड़ है। आपको बता दे कि इसकी 100 से ज्यादा ब्रांचेज है जो विदेशो में भी काफी मशहूर है जहाँ भूटान, मैसिया, अमेरिका, नेपाल और साउथ अफ्रीका आदि जगहे मौजूद है।

ताज होटल में वेटर की सैलरी कितनी है

ताज होटल में वेटर की की सैलरी 1 लाख 30 हजार से लेकर 1 लाख 50 हजार के बीच मिलती है इसकी बेसिक सैलरी 12 हजार से 13 हजार तक होती है ओर कुल वेतन 1 लाख 37 हजार से लेकर 1 लाख 51 हजार तक होता है।

ताज होटल में खाना बनाने वाले कुक की सैलरी कितनी है

ताज होटल में खाना बनाने वाले कुक की सैलरी 80 हजार से लेकर 11 लाख तक है।

ताज होटल में काम करने वाले दरवान की सैलरी कितनी है

तो हम आपको बता दे कि इस होटल के दरवान भी किसी से कम नही है केवल दरवान को 50 हजार से लेकर 1 लाख रुपये तक महीने में मिलती है जिनका काम केवल दरवाजे के सामने खड़ा रहना है केवल खड़े होने की कीमत इतना रुपये है।

ताज होटल में 1 दिन का किराया कितना है

ताज होटल में 1 दिन रुकने का किराया कितना लगता है। इस होटल में 560 कमरे ओर 40 स्वीट्स रूम वाले कमरे इस होटल में अगर आप एक साधारण कमरा लेते है तो आपको लगभग 15000 हजार तक रुपये देने होंगे ओर अगर आप अपने लिए स्वीट्स रूम बुक करते है। तो इसकी कीमत लाखो में जाती है।

ताज होटल का इतिहास

ताज होटल का पूरा नाम ताज महल पैलेस होटल है। यह एक पांच सितारा होटल है जो कि गेटवे ऑफ़ इंडिया के बिलकुल सामने है। इस होटल की इमारत 117 साल पुरानी है यह रिसॉर्ट्स एंड पैलेस का एक हिस्सा है जिसमे 560 कमरे एवं 44 सुइट्स हैं देश विदेश से आने वाले पर्यटक भी इस होटल को काफी पसंद करते है। ताजमहल होटल के निर्माण के पीछे एक रोचक कहानी छुपी हुई है जो शयद आप नहीं जानते है। जमशेदजी टाटा के दिल को लगी ठेस ने मुंबई को एक ऐसी ईमारत देदी जिसकी पहचान आज पुरे देश विदेश में है। सिनेमा के जनक लुमायर भाइयो ने अपनी पहली फिल्म का शो मुंबई के आलीशान वॉटसन होटल में किया था। इन शो को देखने के लिए मात्र ब्रिटिश लोग आये थे क्योंकि वॉटसन होटल के बहार एक तख्ती लगी रहती थी जिस पर लिखा रहता था। भारतीय और कुत्ते होटल के अंदर प्रवेश नहीं कर सकते।

मुंबई टाटा समूह के जमशेद टाटा भी 7 जुलाई 1896 को लुमायर भाइयो की फिल्म देखने वॉटसन होटल में गए थे लेकिन भारतीय होने के कारन उन्हें होटल के अंदर प्रवेश नहीं मिला और तभी उनके दिल को बहुत ठेस पहुंची, जमशेद टाटा ने 2 साल बाद 14 दिसंबर 1903 में यह होटल बनवाया था। उस समय इस होटल के दरवाजे पर एक तख्ती भी लटकती थी जिस पर लिखा होता था ब्रिटिश और बिलिया अंदर नहीं आ सकती।

मुंबई का यह पहला होटल था जिसमे बिजली थी उद्धघाटन के दिन 17 मेहमान इस होटल में रुके थे जिनका किराया एक कमरे का सिर्फ 10 रूपये था। उस समय इस होटल के निर्माण में लगभग 25 लाख रूपये खर्चा आया था। इस होटल को बनाने का काम अंग्रेज इंजीनयर डब्लू ए चैंबर्स को दिया गया था उन्ही की देख रेख में इसका निर्माण हुआ था और इसका श्रय खान साहेब सोराबजी रतन जी को भी जाता है। इस होटल की सुंदरता के बारे में जितनी तारीफ की जाये उतनी ही कम है इस होटल के अंदर लग्जरी कमरों के साथ साथ वो सारी सुविधाएं उपलब्ध है जो एक पांच सितारा होटल में होती है जैसे की बिसनेस सेंटर, कॉन्फ्रेंस रूम, स्वीमिंग पूल, फिटनेस जिम, स्पा और बॉडी मसाज, रेस्टोरेंट अदि।

तो अब आप जान गए होंगे कि Taj Hotel Ka Malik Kaun Hai 2022 में? ताज होटल का मालिक जमशेदजी टाटा है जिन्होंने इस होटल की नीवं रखी थी। यह होटल 1903 में बनकर तैयार हुआ था।

ये भी पढ़े-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here