ATM Full Form | ATM का फुल फॉर्म क्या है?

आज आप इस आर्टिकल में जानेंगे कि ATM Full Form क्या है? आज के समय में सभी काम डिजिटल होने के कारण लोगों का समय बर्बाद होने से बचता है जब से ATM मशीने लग गई है तब से लोगों को बैंको में लाइन नहीं लगानी पड़ती है पहले के समय जब ATM Machine नहीं थी तब लोगों को पैसे निकलने के लिए बैंको में लंबी लाइन लगाना पड़ती थी इसके बाद लोगों को पैसे मिलते है। आज ATM Machine लगने से आपको बैंको के चक्क्रर नहीं काटने पड़ते और आज आपको आदि रात में भी पैसों की जरूरत हो तब भी आप पैसे बड़ी आसानी से निकाल सकते है। लोगों की जरूरत को देखते हुए सरकार ने ATM Machine सभी जगह लगा दी है चाहे आप शहर में हो या गाव हर जगह आप किसी भी समय ATM से पैसे निकल सकते है।

आपने भी ATM Machine का यूज़ जरूर किया होगा पर आपने कभी ये सोचा है ATM का फुल फॉर्म क्या है? आज हम आपको ATM के फुल फॉर्म के अलावा ATM की बहुत सी जानकरी देंगे। आइए जानते हैं कि ATM Full Form क्या है?

ATM Full Form

ATM Full Form

आपको बता दे ATM का फुल फॉर्म “Automated Teller Machine“ होता है और हिंदी में “स्वचालित गणक मशीन” कहा जाता है। आपको बता दे अलग-अलग देशों में ATM को अलग-अलग नाम से जाना जाता है जैसे कनाडा में ATM को ABM (Automatic Banking Machine) कहते है और अन्य देशों में कैश पॉइंट कहा जाता है और कई देशों में इसे Hole in the Wall भी कहा जाता है। आपको बता दे दुनिआभर में जितने भी एटीएम लगे है उनकी एक संयुक्त रूप से एक संस्था बनाई गई है जिसका नाम ATMIA है। जिसका फुल फॉर्म ATM इंडस्ट्री एसोसिएशन है इसकी स्थापना वर्ष 1997 में हुई थी। इस एसोसिएशन का मुख्यालय संयुक्त राज्य अमेरिका में है। 

इस संस्था को इसलिए स्थापित किया गया है ताकि कही भी ATM Machine में कोई प्रॉब्लम आती है उसको ठीक किया जा सके। ये संस्था पुरे दुनिआ में लगे ATM Machine का पूरा डाटा अपने पास रखती है। आपको बता दे पूरी दुनिया में लगभग 35 लाख से ज्यादा ATM लगे हुए है।

ATM Meaning in Hindi

ATM का हिंदी मीनिंग “स्वचालित गणक मशीन” होता है।

Types of atm Cards

1. Debit Card

इस प्रकार का कार्ड (what is the atm card) आपके बैंक अकाउंट से जुड़ा होता है। Debit Card से आप पैसे निकाल सकते है। Online Shopping कर सकते है।

2. Credit Card

Credit Card भी बैंक द्वारा जारी किये जाते हैं। Credit Card से आप उधार में Online Shopping, Mobile Recharge, Online Payment कर सकते है।  Credit Card के इस्तेमाल  के बाद महीने में पैसे चुकाने पड़ते है।

ATM के कार्य

  • ATM से आप पैसे निकल सकते है।   
  • एटीएम से आप पैसे जमा कर सकते है।   
  • ATM से आप अपने पैसो का विवरण पता कर सकते है।   
  • एटीएम से आप पैसों का स्टेटमेंट निकला सकते है।   
  • ATM से आप Online Shopping कर सकते है।   
  • एटीएम से आप Mobile Rechargeकर सकते है। 

ATM के फायदे (advantages of atm)

  • एटीएम का सबसे बड़ा फायदा आपको अपने साथ पैसे रखने के जरूरत नहीं होती है। 
  • ATM के जरिये आप अपने खाते में कितने पैसे जमा है इसका पता लगा सकते है।    
  • एटीएम का सबसे बड़ा फायदा आप कभी भी दिन हो या रात में पैसे निकल सकते है। 
  • आप कही भी हो शहर या गाव आप ATM से आसानी से पैसे निकला सकते है। 

एटीएम के नुकसान (disadvantages of atm)

  • आप एटीएम से 50,000 से ज्यादा पैसे एक दिन में नहीं निकला सकते है। 
  • अगर आपका ATM Card खो जाये तो आपके कार्ड का कोई भी दुरुपयोग कर सकता है। 
  • एक से ज्यादा बार पैसे निकलने पर आपको चार्ज देना पड़ता है। 
  • ATM में नकदी खत्म हो जाने पर आपको पैसे की दिक्कत हो सकती है। 

ATM का आविष्कार किसने किया था

एटीएम के अविष्कार का श्रेय लूथर जॉर्ज सिमियल को दिया जाता है। साल 1961 में सिटी बैंक को न्यूयॉर्क में दुनिया का सबसे पहला ATM लगाया गया था उस समय ATM को बैंकोंग्राफ नाम से जाना जाता था। उस समय लोग इस ATM पर भरोसा नहीं करते थे जिसके कारण इस ATM को 6 महीने बाद हटा दिया था। इसके बाद 1966 में जापान में एक ATM लगाया गया जिससे वह लोगों का समय बचने लगा बैंको में भीड़ कम लगने लगी जिसे देखते हुए जापान के अन्य बैंको ने भी ATM लगाने शुरू कर दिए।

तो अब आप जान गए होंगे कि ATM Full Form क्या है? आपको बता दे ATM का फुल फॉर्म “Automated Teller Machine“ होता है और हिंदी में “स्वचालित गणक मशीन” कहा जाता है। उम्मीद है की आपको इस आर्टिकल में ATM के बारे में सारी जानकारी मिल गई होगी। 

ये भी पढ़े-

ATM Full Form से सम्बंधित FAQ

ATM का आविष्कार किसने किया था?

एटीएम के अविष्कार का श्रेय लूथर जॉर्ज सिमियल को दिया जाता है। 

दुनिया में पहला एटीएम कब और कहां लगा था?

Barclays Bank ने 27 जून 1967 को इंग्‍लैंड में लंदन शहर में लगाया था।

My name is Ashish Shriwas. I am an engineer. I work in an IT company. I write on topics like technology, mobile, app.