KYC Full Form in Hindi- केवाईसी क्या है?

आज आप इस आर्टिकल में जानेंगे कि Kyc Full Form In Hindi क्या है? दोस्तो इस पोस्ट में हम आपको Kyc के बारे में बहुत सी जानकारी बताएंगे जो आपको पहले से शायद ही पता होगी। आज हम आपको Kyc का पूरा नाम के साथ-साथ ये भी बताएंगे कि KYC क्या है? KYC की जरूरत क्यों पड़ती है, KYC भरने के लिए कौन से डाक्यूमेंट्स आवश्यक होते हैं आदि। जैसा की आप जानते ही होगे की आज हर जगह KYC कितना जरुरी हो चुका हैं। बैंक में खाता खोलने में, फिक्स्ड डिपाजिट बनवाने में,जमीन सम्बंधित जानकारी, बैक लोन लेने, बैंक लॉकर लेने, Credit Card बनाने, Mutual Fund खरीदने, पोस्ट ऑफिस सम्बंधित कार्य तथा बीमा आदि लेने के लिए KYC होना बहुत जरुरी हो चुका है।

KYC के बारे में सभी को जानकारी होनी बहुत ही जरुरी हैं। केवाईसी बहुत ही महत्वपूर्ण है यह ग्राहकों और वित्तीय संस्थाओं दोनों को बहुत सारे फ्रॉड और इलीगल एक्टिविटी से बचाता है। भारत में बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थाओं के लिए आरबीआई केवाईसी के नियम निर्धारित करती है। आपने भी कभी न कभी केवाईसी करवाया होगा पर आपने कभी ये सोचा है केवाईसी का फुल फॉर्म क्या होता है? आइए जानते हैं कि Kyc Full Form In Hindi?

KYC का फुल फॉर्म क्या होता है

KYC फुल फॉर्म Know Your Customer होता है जिसे हिंदी में ‘अपने ग्राहक को जानिये’ कहा जाता है। बैंक तथा वित्तीय कंपनी इस फॉर्म को भरवाने के साथ–साथ कुछ पहचान के प्रमाण संबंधित डाक्यूमेंट्स भी लेतीं हैं। जिन प्रमाणों के आधार पर ग्राहक की पहचान की पुष्टि की जाती है। भारत में बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थाओं के लिए आरबीआई केवाईसी के नियम निर्धारित करती है। KYC के जरिए वित्तीय संस्थाएं Customer की पूरी जानकारी निकाल पाते हैं। KYC की प्रक्रिया को करने के लिए संस्थाएं अपने ग्राहकों से जरूरी दस्तावेज जैसे उनका आधार कार्ड, फोटो, पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड मांगती है।

KYC क्या है

KYC किसी भी व्यक्ति की पहचान कराने की एक प्रक्रिया होती है। इसे ज्यादातर वित्तीय सेवा देने वाली संस्थाओ द्वारा किया जाता है। अगर आप बैक मे खाता खुलवाने जाते हैं तो वहा आपसे KYC मांगा जाता हैं क्योंकि उसके आधार पर ही आपकी पहचान होती हैं। उसमे एक code होता हैं जिसे scan करने के बाद आपकी पूरी जानकारी प्राप्त की जा सकती हैं। मुख्य रुप से KYC का उपयोग आपके स्थायी पते के प्रमाण के लिए किया जाता हैं। KYC के रूप में कई सारे डॉक्यूमेंट हो सकते हैं इसमें आधार कार्ड, पहचान पत्र, पेन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस अदि सभी KYC में माने जाते हैं जिससे की आपकी पहचान हो सके। इन सबके अलावा जब हम सिम कार्ड लेते हैं तो अपनी पहचान के लिए हम अपना आधार कार्ड वेरीफाई करते हैं इस प्रक्रिया को भी KYC कहते हैं।

अब आप समझ गए होंगे की KYC क्या है? ​KYC द्वारा कोई भी संस्था आपकी पहचान करती है ताकि अगर फर्जी नाम से कोई धोखाधड़ी करने का प्रयास करे तो उसे तुरंत पकड़ा जा सके। KYC 2002 में सबसे पहले आरबीआई बैंक से शुरू किया गया था। 1 जुलाई 2005 से इसे हर बैंकों में लागू किया गया और इसे करवाना अनिवार्य कर दिया गया। जैसे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, Bank of India, ICICI Bank, Punjab national Bank आदि।

KYC के लिये जरूरी डाक्यूमेंट्स

KYC करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण डॉक्युमेंट लगते है। अगर आपको बैंक या किसी वित्तीय संस्था में KYC करना है तो आपको नीचे दिए गए डॉक्युमेंट की आवश्यकता पड़ेगी।

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • वोटर आईडी कार्ड
  • राशन कार्ड
  • नरेगा कार्ड
  • नेशनल पापुलेशन रजिस्टर से लेटर
  • पासपोर्ट
  • पासपोर्ट साइज फोटो

KYC के कितने प्रकार होते है?

KYC 2 प्रकार होते है

1. ई-के वाय सी (EKYC)

2. सी-के वाय सी (CKYC)

1. ई-के वाय सी (EKYC)

EKYC का फुल फॉर्म “Electronically Know Your Customer” है। इस प्रकार के KYC में आपको किसी डॉक्यूमेंट की जरुरत नहीं होती क्यूंकि इस प्रकार के KYC में आपकी KYC की प्रक्रिया डिजिटल (Digital) रूप में की जाती है। इस प्रकार की KYC प्रक्रिया में आपको सिर्फ आपके आधार नंबर की आवश्यकता होती है। साथ ही में EKYC में आपको आपके अंगूठे का निशान बिओमेट्रिक तरीके से लेकर KYC किया जाता है। 

2. सी-के वाय सी (CKYC)

CKYC का फूल फॉर्म “Central Know Your Customer” होता है। ये KYC आपको हर बैंक या वित्तीय संस्था में करवाई जाती है। इस प्रकार की KYC में आपको एक फॉर्म दिया जाता है उसमे अपनी जानकारी देकर अपनी KYC कर सकते है।

तो अब आप जान गए होंगे कि Kyc Full Form In Hindi क्या है? KYC फुल फॉर्म “Know Your Customer” होता है जिसे हिंदी में ‘अपने ग्राहक को जानिये’ कहा जाता है। KYC करना इतना आवश्यक है क्युकी KYC द्वारा कोई भी संस्था आपकी पहचान करती है ताकि अगर फर्जी नाम से कोई धोखाधड़ी करने का प्रयास करे तो उसे तुरंत पकड़ सके।

ये भी पढ़े-

My name is Ashish Shriwas. I am an engineer. I work in an IT company. I write on topics like technology, mobile, app.